Punarnavasava

Punarnavasavam Review: Uses, Benefits, Dosage & Side Effects

अगर आप पुनर्नवासव (punarnavasavam) के बारे में जानकारी जानना चाहते हो, कि punarnavasavam ayurvedic medicine के benefits क्या किया है और इसके uses क्या-क्या हैं और punarnavasavam के क्या नुकसान या side effects हो सकते हैं.

इसको इस्तेमाल करने के लिए आपको punarnavasavam का सही dosage का पता होना बहुत ही जरूरी है लेकिन उससे पहले जान लेते हैं कि इसके क्या फायदे हैं चलिए जान लेते हैं।

Punarnavasavam REVIEW

पुनर्नवासव (punarnavasav) एक आयुर्वेदिक दवा है जो कई प्रकार के रोगों में इस्तेमाल की जाती है इनमें मुख्य रूप से पैरों की सूजन किडनी रोग और उधर लोग हैं आइए इसको विस्तार से समझते हैं।

Punarnavasavam Benefits/पुनर्नवासव के फायदे;

सूजन या शोध में अत्यंत लाभकारी है यह दवा शरीर में संचित अति द्रव को पेशाब के जरिए बाहर निकाल देती है।

पुनर्वसु किडनी रोग या सीकेडी से होने वाली पैरों की सूजन को कम करती है इसमें इस्तेमाल किए जाने वाली पुनर्वास और गोक्षुर किडनी की कार्य क्षमता को सुधरती है।

पुनर्नवासव उदर रोग या Ascities मैं पेट में बढ़े हुए जल को मित्र के रूप में निकालकर सूजन कम करने में अत्यंत उपयोगी होता है।

Punarnavasava

पुनर्नवा हृदय रोग में भी लाभकारी होता है। यह रक्त में अतिरिक्त जलांस निकालकर हृदय के भार को कम करता है। यह हाइपरटेंशन के रोगियों में ब्लड प्रेशर को कम या ज्यादा नहीं होने देता है। पुनर्नवासव प्लीहा रोग में भी उपयोगी होता है।

यह बढ़ी हुई प्लीहा को कम करता है , इसमें कुटकी पुनर्नवा गुडुची जेसी औषधियों के होने की वजह से यह लीवर को भी बल देता है।

पुनर्नवासव कामला (पीलिया) सिरोसिस, हेपेटाइटिस, जैसी व्यधियो में यकृत की रक्षा करता है। इसी के साथ-साथ यह है दवा हाइपर एसिडिटी कब्ज और बदहजमी जैसे बीमारियों पर भी बहुत ही ज्यादा गुणकारी साबित होता है।

Punarnavasavam Ingredients/ पुनर्नवासव की घटक;

बात करते हैं पुनर्नवासव में पाए जाने वाले जड़ी बूटियों के बारे में इसमें कौन-कौन से इनग्रेडिएंट पाए जाते हैं तो इसमें मुख्य रूप से…

  • पुनर्नवादारू
  • हरिद्र
  • त्रिफला
  • त्रिकटु
  • वासा
  • गोक्षुर
  • कंटकारी
  • ब्रहती

Punarnavasava Dosage:

आइए जान लेते हैं कि पुनर्नवासव की मात्रा यानी खुराक के बारे में. इसको इस्तेमाल करने का सही तरीका क्या है ताकि आपको इससे कोई भी नुकसान ना हो.

पुनर्नवासव सामान्यत: व्यस्क व्यक्ति के लिए 10 से 15 एम एल की मात्रा में लेते हैं दिन में दो बार सुबह-शाम बराबर मात्रा में पानी के साथ लेते हैं, इसको भोजन करने के बाद लेते हैं।
(चिकित्सक के अनुसार दवा ले तो आपके लिए बेहतर होगा)

Punarnavasava Price:

दोस्तों अगर आप इसको खरीदना चाहते हैं तो आपको नजदीकी आपके मेडिकल स्टोर से मिल जाएगा, अगर नहीं मिले तो यह ऑनलाइन भी मिल जाता है.

ऑनलाइन खरीदने के लिए हमने नीचे लिंक दिया है उस पर क्लिक करके आप इसको घर बैठे आसानी से मंगा सकते हैं और इस्तेमाल करके फायदा उठा सकते हैं.

punarnavasavam

Kerala Ayurveda Punarnavasavam 435 Ml

Punarnavasava Side Effects:

पुनर्नवास्वम को किसी भी गंभीर दुष्प्रभाव का कारण नहीं माना जाता है। इसमें केवल शुद्ध, प्राकृतिक हर्बल तत्व होते हैं। इसमें कोई रसायन नहीं होता है। इसलिए, इसका उपयोग करना सुरक्षित माना जाता है।

स्तनपान कराने वाली माताएं विशिष्ट संकेतों के आधार पर इस दवा का उपयोग कर सकती हैं। स्तनपान कराने वाली मां द्वारा छोटी अवधि के लिए उपयोग किए जाने पर नवजात शिशु पर इसका कोई प्रतिकूल प्रभाव उत्पन्न नहीं होता है।

हालांकि, महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान इसका उपयोग करने से बचना चाहिए जब तक कि डॉक्टर द्वारा सलाह न दी जाए।

कुछ रोगियों को हल्के गैस्ट्रिक शिकायतें जैसे कि नाराज़गी, मतली और पेट में दर्द हो सकता है यदि यह दवा बहुत अधिक खुराक में दी जाती है।

Punarnavasavam की बहुत अधिक खुराक से रक्तचाप में अस्थायी भिन्नता हो सकती है। इसलिए, उच्च रक्तचाप वाले रोगियों को सावधानी के साथ इस दवा का उपयोग करना चाहिए। चूंकि इस दवा में चीनी है, मधुमेह के रोगियों को इसका उपयोग करने से बचना चाहिए।

इसे भी पढ़े:

Leave a Reply