Kali Mirch ke Fayde काली मिर्च के आश्चर्यजनक लाभ Benefits of Black Papper in Hindi

Advertisement

Kali Mirch ke Fayde: प्रकृति में हमारे लिए जितने भी भोज्य पदार्थ हैं उन सब में हमारे लिए कुदरत ने कोई न कोई लाभ अवश्य रखा है इन्ही लाभदायक वस्तुओं में से एक काली मिर्च भी है।

काली मिर्च का सेवन भोजन में हर घर व होटल में किया जाता है ये मसाला किसी भी डिश के टेस्ट को बेहतर बनाता है।

विभिन्न प्रकार के व्यंजन के साथ साथ ये कभी कभी ये desart और पेय पदार्थों में भी शामिल क्या जाता है तथा इस से भोजन को सुरक्षित रखने में भी मदद मिलती है।

काली मिर्च देखने में तो एक छोटा सा दाना है परंतु कुदरत ने इस के अंदर कितने ज़्यादा लाभ छुपाए हुए हैं ये सब आपको ये आर्टिकल पढ़ कर समझ में आजायेगा।


काली मिर्च क्या है? Kali Mirch kya hai


काली मिर्च जिसे मसालों की रानी कहा जाता है इसे आप अपने स्टोर में कई वर्षों तक सुरक्षित रख सकते हैं तथा इस में पाए जाने वाले रासायनिक तत्वों के कारण न तो इसे कीड़े खाते हैं न ही किसी प्रकार की हानि पहुँचा सकते हैं।

काली मिर्च पहाड़ों व ऊँची चट्टानों पर उगती है ये एक बेल नुमा पौधा होता है।इसकी बेल 4 मीटर लंबी होती है जिस पर चौड़े व नोकदार पत्ते लगते हैं।

kali mirch ke fayde

इसपर लगने वाले फूल बहुत सुंदर होते हैं इसीलिए इसे उद्यानो में भी लगाया जाता है।

इस पर लगने वाले फूल पहले हरे और फिर लाल हो जाते हैं और यह अंगूरों के गुच्छे की तरह लगते हैं जब इनको सुखाया जाता है तो यह काले हो जाते हैं।

उस पर काले रंग का फल लगता है इसीलिए उसको काली मिर्च के नाम से पुकारा जाता है जब के इंग्लिश में उसको ब्लैक पेपर black papper कहते हैं और इसका साइंटिफिक नेम Nigrum Piper है।

काली और सफेद मिर्च या दखनी मिर्च कोई अलग अलग चीज नहीं है बल्कि काली मिर्च को भिगोकर उसके ऊपर का छिलका उतार लेने से सफेद मिर्च बन जाती है परंतु इसका तीखापन कम तेज होता है।

काली मिर्च का सेवन पीसकर भी किया जाता है और साबित भी मगर दोनों ही प्रकार में इसका लाभ बना रहता है।

एशिया में ज्यादातर लोग हरी व लाल मिर्च का सेवन करते हैं परंतु यूरोप और अरब कंट्रीज में काली मिर्च का इस्तेमाल ज्यादा किया जाता है।

भारत श्रीलंका वयतनाम,जापान कोरिया थाईलैंड चाइना ब्राजील और इंडोनेशिया में इसकी खेती की जाती है और इन्हीं देशों से यूरोप में मंगाई जाती है।

काली मिर्च में पाए जाने पोषक तत्वों की मात्रा kali mirch nutrition in hindi

100 ग्राम काली मिर्च में विटामिन ए 10%

विटामिन सी 35%

विटामिन ई 30%

सोडियम 3%

पोटेशियम27%

कैल्शियम 44%

आईरन 360%

फास्फोरस 25%

जिंक 13% व मैग्नीशियम 48.5% होती हैं.

रोग प्रतिरोधक क्षमता व व काली मिर्च Kali Mirch ke Fayde

रोगों के खिलाफ लड़ाई में काली मिर्च की एंटीबैक्टीरियल विशेषताएं अपना किरदार अदा करती हैं।

साउथ अफ्रीका में की गई एक रिसर्च के मुताबिक कालीमिर्च में मौजूद piperine में लारवा को समाप्त करने वाली विशेषताएं होती हैं जिससे पेट में इन्फेक्शन होने या बीमारियां फैलने के खिलाफ मदद मिलती है।

काली मिर्च में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट आपके स्वास्थ्य में बेहतरी लाने के लिए कई प्रकार से कार्य करते हैं यह रोगों से लड़ने और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में भी मदद करते हैं।

kali mirch ke fayde

एक रिसर्च के मुताबिक अन्य भोज्य पदार्थों की मुकाबले काली मिर्च में सबसे ज्यादा एंटी ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं।

इसमें सबसे ज्यादा फेनोलिक फैमिली पाया जाता है जो कैंसर से सुरक्षा देने के साथ-साथ कहीं अन्य स्वास्थ्य पर भी विशेष प्रभाव डालता है।

खाँसी को दूर करने का अचूक उपाय Kali Mirch ke Fayde

चीन में नजला जुकाम और खांसी को दूर करने के लिए काली मिर्च हजारों वर्ष से प्रयोग की जा रही है। इसके अतिरिक्त काली मिर्च सांस की प्रॉब्लम को भी आराम पहुंचा सकती है।

दमे के रोगियों पर की गई एक रिसर्च में पाया गया कि जब रोगियों को काली मिर्च का सेवन कराया गया तो उनकी हालत बेहतर होनी शुरू हो गई।

काली मिर्च सांस की नालियों की सफाई करती है और सांस लेने की क्रिया को आसान बनाती है

एक और घरेलू टोटका यह है कि नींबू की फांक पर काली मिर्च के छिड़क दें और उसको जितना हो सके चूसें ताकि खाँसी से फौरन आराम मिल सके।

ऐसे पढ़े: Alsi ke fayde अलसी के फ़ायदे |Flax Seeds Benefits in Hindi

पेट की समस्याओं को दूर करे Kali Mirch ke Fayde

भोजन में काली मिर्च का ज्यादा सेवन मैदे के लिए बेहतर होता है तथा ये भोजन को पचाने में मदद देता है तथा मैदे के ऐसे रसायन को भी सक्रिय करदेता है जिससे खान का पाचन जल्दी हो जाता है।

kali mirch ke fayde

साथ ही इसका एक बड़ा लाभ ये भी है कि ये अपने सेवन करने वालों को कब्ज़, डायरिया व भूख की कमी को दूर करने की छमता रखता है।

साथ ही काली मिर्च का भोजन में ज्यादा ज्यादा प्रयोग मैदे के लिए बहुत फायदेमंद होता है।साथ ही इसके सेवन से पेट के कीड़े मर जाते हैं।

यह कब्ज और गैस की शिकायत को भी समाप्त करने में मदद देती है और शरीर में होने वाले दर्द को दूर कर देती है.

कैंसर से बचाने का उपाय Kali Mirch ke Fayde

एक रिसर्च से यह भी साबित हुआ है कि काली मिर्च मिर्च में मौजूद Piperine विभिन्न प्रकार के कैंसर के खिलाफ सुरक्षा कवच बना देता है।

पिपेरिन दूसरे पौष्टिक तत्व जैसे सेलेनियम,करक्यूमिन,बेटा कैरोटीन और विटामिन बी को आंतों में सोखने के कार्य भी तेज कर देता है।यह तत्व स्वास्थ्य को बनाए रखने और कैंसर से सुरक्षा देने में मदद देते हैं।

कनाडा में की जाने वाली एक रिसर्च के मुताबिक कैंसर से बचाव में काली मिर्च में मौजूद piperine बहुत काम आता है।

यह आंत पर पड़ने वाले दबाव को कम करता है और कोलोन कैंसर से भी बचाता है।ब्रेस्ट कैंसर अब महिलाओं में आम होता चला जा रहा है

परंतु काली मिर्च के सेवन से महिलाएं ब्रेस्ट कैंसर जैसे घातक रोग से बच सकती हैं। इसके प्रयोग से त्वचा के मृत हो रहे सेल्स को शक्ति मिलती है।

ऐसे पढ़े: Dalchini ke fayde दालचीनी के फायदे, उपयोग और नुकसान हिंदी में

तम्बाकू व नशीले पदार्थ की लत दूर करने के लिए Kali Mirch ke Fayde

एक रिसर्च के मुताबिक निकोटिन का सेवन करने वाले काली मिर्च के तेल की महक को सुनते हैं तो तंबाकू खाने के लिए उनके पास में कमी आती है और उनकी तंबाकू खाने की लत छू जाती है।

ऐसा करने से लोगों के गले में एक जलन सी पैदा होती है जो कुछ ऐसा मजा देती है जैसे सिगरेट पीते हुए महसूस होती है और तंबाकू नोशी की लत छूट जाती ह.

मोटापा दूर करने के लिए काली मिर्च के लाभ Benefits of Black Papper in Hindi

काली मिर्च का सेवन फालतू चर्बी से छुटकारा पाने का अच्छा उपाय है।रिसर्च से साबित है कि काली मिर्च में मौजूद Piperine फैट टिशूज को पैदा होने से रोकता है जिसमें जिससे भार में कमी लाने का मकसद पूरा किया जा सकता है।

kali mirch ke fayde

मोटापे से रिलेटेड समस्याओं को दूर करने के लिए खाने में काली मिर्च को दूसरी मिर्च के बदले के प्रयोग किया जा सकता है।
ये फैट व कार्बोहाइड्रेट की खपत को कम करने के साथ साथ शारीरिक क्रिया को एक्टिव कर देता है। तथा इसका सेवन मौसम के अनुसार कम या ज़्यादा कर सकते हैं।

डाइटिंग में काली मिर्च के सेवन का सुझाव दिया जाता है इस के एक चम्मच में सिर्फ 8 कैलोरीज होती हैं इसीलिए इसे चिकन या ग्रिल्ड सब्जियों के ऊपर छिड़ककर खाया जा सकता है।

त्वचा की देखभाल के लिए लाभदायक Kali Mirch ke Fayde

एंटी बैक्टीरियल व एंटी ओक्सिडेंट्स से भरपूर काली मिर्च बेदाग व साफ त्वचा हासिल करने में मदद देती है।

ये मिर्च अपनी गर्म प्रवृत्ति के कारण रक्त चक्र को प्राकृतिक तौर पर बढ़ा देती है और गर्मी से त्वचा के रोम छिद्रों को खोल कर उनकी सफाई करती है।

ऐसे पढ़े: Alsi ke fayde अलसी के फ़ायदे |Flax Seeds Benefits in Hindi

थके हुए मसल्स को आराम देने के लिए Kali Mirch ke Fayde

वर्ज़िश के बाद अगर सुकून महसूस न हो रहा है या तने हुए शरीर को ढीला करने के लिए काली मिर्च के तेल से मालिश करें।

यह एक गर्म तेल माना जाता है जो इस जगह खून के चक्र और हरारत को बढ़ा देता है। दो बूंदे काली मिर्च के तेल को चार बूंदे रोजमेरी ऑयल में मिलाएं और फिर उसे जहां लगा लो को लगा लें।

काली मिर्च शरीर में गर्मी पैदा करती है तथा शरीर से सर्दी को दूर कर शरीर को गर्मी प्रदान करती है इसी कारण सर्दी के मौसम में प्रयोग की जाने दवाइयों में इसको शामिल करने की सलाह दी जाती है।

अन्य लाभ Other Benefits of Black Papper in Hindi

  • इसके सेवन से याददाश्त मजबूत होती है।
  • ब्लड प्रेशर को निचली सतह पर रखने में भी काली मिर्च काम आती है। स्लोवाकिया में की जाने वाली एक रिसर्च के मुताबिक काली मिर्च हाई ब्लड प्रेशर को रोकने के लिए बहुत फायदेमंद है
  • इसके सेवन से महिलाओं के पीरियड्स की समस्याएं सही हो जाती हैं।
  • कुष्ठ रोग में इसका सेवन लाभ देता है।
  • गले में जलन या इंफेक्शन हो तो भी यह लाभदायक है इसके सेवन से कब से बचाव होता है।
  • इसके सेवन से खट्टी डकारें नहीं आतीं।
  • दिमागी तनाव को दूर करने के साथ साथ याददाश्त की बेहतरी के भी लाभदायक है।
  • कीड़े मकोड़ों के काटने पर होने वाले इंफेक्शन से यह बचाव करती है।
  • अपनी एंटी बैक्टीरियल विशेषताओं के कारण दांतों के दर्द और मुंह दांत व मसूढ़ों में होने वाले इन्फेक्शन से सुरक्षित रखने में मदद करती है।

सावधानियाँ Precaution of Black Papper in Hindi

  • याद रहे कि किसी भी मसाले को समझदारी के साथ इस्तेमाल करना चाहिए तथा इसका सेवन करने से पहले अपने शरीर के प्रकार का ध्यान रखना चाहिए।
  • एलेर्जी, हृदय रोग, बार बार पेशाब आने वाले रोगियों को काली मिर्च हानि पहुंचा सकती है। इस लिए इसका सेवन करने से पहले किसी माहिर डॉक्टर से अवश्य मिलना चाहिए।
  • गर्भवती महिलाओं को इसके सेवन से बचना चाहिए।
  • अनिमिया, अल्सर और viral रोगों में भी इसका सेवन नही करना चाहिए।
  • जिन लोगो को गुर्दे की समस्या है उन्हे काली मिर्च के अधिक सेवन से बचना चाहिए।

Advertisement

Leave a Reply

%d bloggers like this: