Haldi ke fayde |Turmeric Benefits in Hindi हल्दी के लाभ व नुक़सान

Haldi ke Fayde: हमारे यहां भोजन में अक्सर ऐसे मसाले इस्तेमाल किए जाते हैं जो पोषक तत्वों के लिहाज़ से किसी पावर हाउस से कम नहीं होते जैसे कि हल्दी हमारे खानों में आमतौर पर इस्तेमाल की जाती है।

यह अदरक की नस्ल के पौधे curcuma Longa की जड़ से निकाली जाती है। मसालेदार और गर्म हल्दी अपनी तेज़ महक और पीली सुंदर रंग की बदौलत जानी जाती है।

परंतु क्या आप जानते हैं कि हल्दी केवल भोजन का रंग और टेस्ट बेहतर नहीं करती है बल्कि एंटीबायोटिक होने के साथ साथ यह एक मजबूत एंटीऑक्सीडेंट मसाला भी है प्राचीन चीनी दवाओं और आयुर्वेदिक इलाज के तरीके में इसकी हिस्ट्री को तलाश किया जा सकता है।

हल्दी प्राकृतिक तौर पर एंटीबैक्टीरियल विशेषताओं से भरपूर है। हल्दी एक ऐसा मसाला है जो सब्ज़ियों का ज़ायका और रंग बढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

हल्दी अपनी खूबसूरत रंगत, अच्छे टेस्ट,और मनुष्य के सवास्थ्य के लिए बेहद खूबियों से भरी है। साथ ही हल्दी में कई प्रकार की एंटी बैक्टीरियल विशेषताएँ हैं जो सुवास्थ्य के लिए लाभदायक (Haldi ke fayde) हैं।

एशिया का शायद ही कोई ऐसा घर होगा जहाँ हल्दी का सेवन न किया जाता हो परंतु यूरोप की नई रीसर्च के कारण यूरोप के वैज्ञानिक भी अब हल्दी के लाभ मान चुके हैं अब वहाँ इसे प्यार से pure gold का नाम दिया जा रहा है।

ऐसा इस में पाए जाने वाले जादुई तत्व करक्यूमिन के कारण है जो हल्दी की रंगत और उसे जादुई असर देने वाला तत्व है।ये ब्लड प्रेशर, इंफेक्शन,दिमागी तनाव,कैंसर,हृदय रोग और जोड़ों के दर्द में बेहद लाभदायक माना जाता है। ब्रिटेन में भी भारी संख्या में लोग cercumin का सेवन कर रहे हैं

हल्दी में  पाए जाने पोषक तत्व Haldi/Turmeric Nutrition Facts

मशहूर कहावत है कि जिस शहर में ज़ैतून, हल्दी, अलसी और कलौंजी मौजूद हो वहाँ डॉक्टर का कोई काम नही है।

haldi ke fayde

एक चमचा हल्दी में 24 कैलोरी, चिकनाई, फाइबर, आइ रन और प्रोटीन पाया जाता है। इस में एंटी वायरल एंटी इन्फ्लेमेटरी एंटीऑक्सीडेंट्स विशेषताएं (Haldi ke fayde) मौजूद होती है।

इसके अलावा यह बैक्टीरिया को समाप्त करने की जबरदस्त क्षमता रखती है यह इम्यून सिस्टम को सही करती है और कैंसर समेत कई बीमारियों को आपसे दूर रखती है।

हल्दी के लाभ Haldi ke Fayde

हल्दी के फायदे रोज-रोज सामने आ रहे हैं और अब इसे जादुई चीज बताया जा चुका है। आज हम हल्दी के कुछ विशेष लाभ (Haldi ke fayde) आपको बताते हैं-

कैंसर और हल्दी Turmeric Benefits in Hindi | Haldi ke fayde

साइंस के मुताबिक हल्दी में 100 से ज्यादा केमिकल कंपाउंड्स होते हैं जो बहुत सी बीमारियों में लाभ पहुंचाते हैं विशेष रुप से करकोरम कंपाउंड जो हल्दी को खूबसूरत रंगत देता है यह एक लाभदायक ऑर्गेनिक केमिकल है जो कैंसर जैसे गंभीर रोग को पैदा नहीं होने देता।

हल्दी में बहुत सारे एंटीऑक्सीडेंट्स मौजूद होते हैं जो कैंसर को काबू करने की विशेषता रखते हैं और कैंसर वाले सेल्स को समाप्त करते हैं।

haldi ke fayde

दुनियाभर में कैंसर के दर्जनों इलाज पता चल चुके हैं जिनके अपने अपने लाभ और नुकसान हैं परंतु सिर्फ अब तक 2000 से ज्यादा रिसर्च आर्टिकल्स सिर्फ करक्यूमिन और कैंसर पर पब्लिश हो चुके हैं और माहिर लोग कैंसर के खिलाफ अभी सर्च करने की कोशिश कर रहे हैं।

परंतु अब तक की गई रीसर्च यह बताती है कीहल्दी में पाया जाने वाला तत्व करक्यूमिन कैंसर के बढ़ने की रफ्तार को धीमा कर देता है बल्कि कैंसर से बचा भी सकता है साथ है कैमू थेरेपी के कार्य को भी ज्यादा असर दायक बना सकते हैं।

यूनिवर्सिटी ऑफ मेरीलैंड के मेडिकल सेंटर ने साबित किया है कि आम रोगों के साथ साथ हल्दी कैंसर भगाने में भी अहम किरदार अदा कर सकती है। इस में मौजूद एंटी ओक्सिडेंट्स आंतों, छाती और प्रोस्टेट कैंसर बहुत फायदेमंद साबित होते हैं।

लेकिन इस पर अभी और रिसर्च की ज़रूरत है क्योंकि लैब में किए गए परीक्षण से करक्यूमिन के इस एंटी कैंसर प्रभाव का पता चला है परंतु लैब का माहौल मनुष्य के शरीर से बिल्कुल अलग है और फिर करक्यूमिन के पानी में मिल जाने की क्षमता बहुत कम होने के कारण शरीर उसे हल्दी से पूरी तरह नही सोख पाता।

इंफेक्शन, रोग प्रतिरोधकक्षमता और हल्दी Turmeric Benefits in Hindi | Haldi ke fayde

हल्दी एक प्राकृतिक एंटी इन्फ्लेमेटरी दवा है। इंफेक्शन शरीर के किसी भी हिस्से में दर्द या बेचैनी का कारण है इस में डॉक्टर anti-inflammatory दवाइयां देते हैं।

अक्सर यह दवाइयां लाभ पहुंचाने में नाकाम हो जाती है और इनका ज्यादा इस्तेमाल भी स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक है परंतु हल्दी में मौजूद प्राकृतिक anti-inflammatory विशेषताएं सारे शरीर में इंफेक्शन के खिलाफ कार्य करती है।

ये इन्फेक्शन को खत्म करने के साथ ही कई प्रकार के शक्तिशाली इंफेक्शन जैसे ई कोली की भी रोकथाम करती हैं।साथ ही हल्दी रोगप्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाती है।

मनुष्य के शरीर का इम्यून सिस्टम शरीर को रोगों के लगने से बचाने का जिम्मेदार होता है डॉक्टर का कहना है इम्यून सिस्टम पाचन तंत्र के साथ जुड़ा हुआ होता है और हल्दी खाना शरीर के इम्यून सिस्टम को ताकतवर और शक्तिशाली करता है।

क्योंकि हल्दी के अंदर प्राकृतिक रूप में एंटी वायरल एंटी बैक्टीरिया और एंटीमाइक्रोब एल कंपाउंड इम्यून सिस्टम को लड़ने के लिए हथियार देते हैं और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता प्राकृतिक तौर पर बढ़ा देते (Haldi ke fayde) हैं।

हृदय रोग व हल्दी Haldi ke fayde | Turmeric Benefits in Hindi

हमारा मॉडर्न भोजन चाहे जितना भी सुवादिष्ट क्यों न हो ये नुकसानदायक चर्बी और बुरे कोलेस्ट्रोल से भरपूर होते हैं जो कि सेहत के लिए ठीक नही हैं। कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने पर अक्सर एंटी कोलेस्ट्रॉल दवाइयाँ प्रयोग की जाती हैं।

हल्दी एक विष रहित हेर्बल दवा है जो कोलेस्ट्रोल लेवल को तेजी से कम करने शिराओं की अकड़न या ब्लॉक होने समेत अन्य हृदय रोगों की देखभाल करता (Haldi ke fayde) है।

haldi ke fayde

साथ ही रक्त वाहिनी से जुड़े रोग रोग जैसे हार्टअटैक और फालिज आदि दुनिया भर में सबसे ज्यादा मौतों का कारण बनते हैं हृदय रोगों के बहुत से बड़े कारणों में से एक सूजन है और हल्दी सूजन को खींचने वाला मसाला है जिससे फालिज और हृदय रोगों का खतरा कम होता है।

हम जानते हैं कि करक्यूमिन हल्दी में आमतौर पर पाया जाता है और बहुत सी विशेषताएं रखता है एक तरफ तो यह अंदरूनी जलन वे सूजन को कम करता है तो दूसरी तरफ इसमें एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जो हृदय रोगों से रक्षा करते हैं।

इसी बारे में 2012 में एक सर्वे किया गया था जिसके अंदर दिल के रोगियों को बाईपास से 3 दिन पहले और 5 दिन बाद रोजाना 4 ग्राम करक्यूमिन दिया गया गया तो इससे हार्ट अटैक के खतरे 17 परसेंट तक कम देखे गए।

त्वचा संबंधी समस्याएं और हल्दी Haldi ke fayde| Turmeric Benefits in Hindi

हल्दी त्वचा की मृत कोशिकाओं के लिए बहुत लाभदायक (Haldi ke fayde) है और यह त्वचा को जवानी जैसी चमक देने में मदद देती है, हल्दी त्वचा को खूबसूरत बनाने के लिए हजारों साल से प्रयोग की जा रही है आज भी रंग निखारने वाली ज्यादतर क्रीमों में हल्दी को शामिल किया जाता है।

हल्दी त्वचा को धूप की नुकसानदायक अल्ट्रावायलेट किरणों से सुरक्षित रखकर उसे झुलसने से दूर करती है,ये सूजन व खुजली में कमी लाती है।

इसका सेवन कील मुहांसों की रोकथाम ही नहीं करता बल्कि उसे अक्सर चेहरे पर लगाना कील मुहांसों के निशान और सूजन को दूर करने में भी मदद देता (Haldi ke fayde) है।

यह एक ऐसा एंटी ऑक्सीडेंट मसाला है जो शरीर के अंदर नुकसानदायक तत्वों को बढ़ने से रोकता है और सेल्स को नुकसान पहुंचा कर उम्र के आयु बढ़ने से आने वाली समस्याओं की रोकथाम करता है इसी तरह नए सेल्स की बढ़ोतरी में भी मददगार है जिस से बढ़ती उम्र के असर को रोकने में मदद मिलती है।

साथ ही यह जानना महिलाओं के लिए काफी दिलचस्पी है हल्दी चेहरे के अनावश्यक बालों की बढ़ोतरी की रोकथाम में मदद देता है इसके लिए एक चौथाई चम्मच हल्दी को एक चम्मच बेसन और पानी डालकर पेस्ट बना लें इसे चेहरे पर 15 मिनट लगा रहने दें फिर धो लें अगर इस टोटके का मामूल बना लिया जाए तो 1 महीने के अंदर आप बहुत फर्क महसूस कर सकती हैं।

परंतु इस बात का ध्यान रखें कि इसे ऐसी जगह पर लगाएं जो आसानी से ढकी जा सके या कुछ देर के लिए पीली होने पर फिक्र मंद न हों।

ये भी पढ़े:: Giloy ke fayde | Giloy Benefits in Hindi गिलोय के लाभ

शारीरिक भार व शुगर रोग और हल्दी Haldi ke fayde

ऐसी बहुत सी दवाइयां जो डायबिटीज को कंट्रोल करने का कार्य करती हैं उनमें करक्यूमिन को शामिल किया जाता है जानवर और इंसानों पर की गई कई रिसर्च से पता चला है की हल्दी का अहम तत्व करक्यूमिन डायबिटीज के खिलाफ असर रखता है।

यह बाट भी सामने आई है की हल्दी का सेवन ब्लड ग्लूकोस या ब्लड शुगर लेवल कम करने और कंट्रोल करने में मदद देता है विशेष तौर पर ऐसे लोगों में जो डायबिटीज टाइप टू के शिकार हों।

ब्लड शुगर लेवल नॉर्मल रहने से डायबिटीज का और उस से रिलेटेड दूसरी समस्याओं का खतरा भी कम होता है जैसे गुर्दों के रोग या न्यूरो सिस्टम को नुकसान पहुंचना मगर इस हवाले से वैज्ञानिकों ने अभी और रिसर्च की जरूरत पर जोर दिया है।

Turmeric Benefits in Hindi

साथ ही यह मसाला डाइटिंग की कोशिश को फायदा जरूर पहुंचा सकता है क्योंकि एक रिसर्च में मुताबिक हल्दी का सेवन से चूहों में चर्बी के टिशूज की बढ़ोतरी में कमी देखने में आई जिससे शारीरिक वजन कम हुआ (Haldi ke fayde)।

हल्दी का खाने में ज्यादा इस्तेमाल उस वरम से बचाता है जो कि मोटापे का कारण बनता है जब के चर्बी घुलने की रफ्तार को भी यह तेज कर देता है। 2009 में की गई रिसर्च के मुताबिक बदन में चर्बी को रोकने के लिए हल्दी अहम किरदार अदा करती है।

ये भी पढ़े:: Dalchini ke fayde दालचीनी के फायदे, उपयोग और नुकसान हिंदी में

मस्तिष्क रोग व हल्दी Turmeric Benefits in Hindi

तनाव उदासी और डिप्रेशन आज के दौर का एक बढ़ता हुआ रोग है परंतु क्या आप जानते हैं कि रोजाना 500 मिलीग्राम करक्यूमिन जो कि लगभग दो चम्मच हल्दी में पाया जाता है इतने खाने से भी वही असर होता है जो कि मशहूर दवाओं प्रोज़ेक और flokcetine है क्योंकि हल्दी डिप्रेशन का प्राकृतिक इलाज है।

शक्तिशाली पोषक तत्वों के कारण हल्दी में पाया जाने वाला करक्यूमिन मस्तिष्क रोगों से सुरक्षा करने में मदद देता है यह मस्तिष्क में होने वाले सेल्स की टूट-फूट को रोकता है इसलिए आवश्यक है कि भोजन में हल्दी की मात्रा को बढ़ाया जाए।

हल्दी दिमाग के उन प्रोटींस को तब्दील होने से बचाती है जो अल्जाइमर और दूसरे मस्तिष्क रोगों का कारण बनते हैं कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी की एक रिसर्च के में बताया गया है की हल्दी का सेवन अधेड़ उम्र के लोगों में याददाश्त और उनके मिजाज को बेहतर बनाकर अल्जाइमर रोग का खतरा कम करने में मददगार साबित हो सकता है।

रिसर्च के मुताबिक हल्दी में पाया जाने वाला पीले रंग का तत्व करक्यूमिन दिमागी सूजन को कम करने की सलाहियत रखता है जो कि अल्जाइमर रोग और डिप्रेशन जैसी बीमारी का कारण बनता है।हल्दी डिप्रेशन को कम करने में भी अहम किरदार अदा करती है।


जोड़ों और गठिया के दर्द में फायदेमंद Turmeric Benefits in Hindi

एक रिसर्च से पता चला है अमेरिका में लोग जोड़ और गठिया के दर्द में हल्दी की चाय पीते हैं और इससे उन्हें काफी लाभ (Haldi ke fayde) भी प्राप्त होता है।

डॉक्टर्स की तरफ से ऐसे रोगियों को अक्सर हल्दी का सेवन करने की सलाह दी जाती है जो अपने जोड़ों में दर्द और इंफेक्शन की शिकायत करते हैं।जोड़ों के दर्द ऑपरेशन और आम दर्द में भी हल्दी फायदेमंद है।

हल्दी में मौजूद पॉलीफेनॉल एक ऐसा एंटीऑक्सीडेंट है जोकि वरम को खींचने की क्षमता रखता है। ये हड्डियों व जोड़ों के दर्द, अकड़न,जोड़ों के घिसाव, हड्डियों के टूटने और जोड़ों के सूजन कम करते हैं यही कारण है कि बड़ी संख्या में एथलीट इस का सेवन करते हैं।

वह अपनी बेहतरीन कार्य शीलता के लिए cercumin सप्लीमेंट लेते हैं और भोजन में हल्दी की मात्रा बढ़ा देते हैं।जोड़ों के रोगों का शिकार लोग डॉक्टर की सलाह से हल्दी का कैप्सूल इस्तेमाल करके रिलीफ हासिल कर सकते हैं।

ये भी पढ़े:: फिटकरी के बेहतरीन फायदे Fitkari ke fayde | Benefits Alum in Hindi

सूजन घाव व दर्द को को दूर करने के लिए हल्दी Turmeric Benefits in Hindi | Haldi ke fayde

अंदरूनी और बाहरी घावों को भरने का प्राकृतिक स्त्रोत हल्दी प्राकृतिक तौर पर एंटीबैक्टीरियल विशेषताओं से भरपूर है यह खराश घाव और जलने आदि के लिए बहुत फायदेमंद है यह घाव के लिए मरहम का कार्य करती है।

यह न केवल घाव को जल्दी भर देती है बल्कि घाव में रक्त का थक्का बनाकर रक्त को बहने से रोक देती है साथ ही घाव भरने की क्षमता भी बढ़ाती है और घाव पर लगाने से घाव भरने के लिए नए सेल की बढ़ोतरी में मदद देती है।

turmeric precautions

हल्दी की एक और विशेषता इसकी जलन को दूर करने वाली विशेषता (Haldi ke fayde) है।हल्दी वरम को खींचने वाला मसाला है। जानवरों पर की गई एक रिसर्च के मुताबिक हल्दी का रोज़ाना सेवन शरीर में सूजन को काबू करने में मदद देता है जबकि उसकी पीली रंगत में मौजूद एंटी ओक्सिडेंट्स सूजन से होने वाले नुक्सान को दूर करते हैं।

रिसर्च के मुताबिक हल्दी का मुकाबला बहुत सी दवाओं जैसे मोट्रीन, ब्रॉफिन और स्पिरिन से किया जा सकता है और ज़ाहिर सी बात है कि इस में प्राकृतिक विशेषताएँ ज़्यादा होती हैं और दवाओं की तरह ज़हर नही होता।

बचपन में खेलते हुए बच्चों के घुटनों पर चोट लग जाती है तो उस पर हल्दी लगाने से वह फौरी तौर पर ठीक हो जाते हैं हल्दी दर्द को दूर करती है दर्द में कमी लाने के लिए यह बेहतरीन है।

जिगर के लिए हल्दी के लाभ Turmeric Benefits in Hindi | Haldi ke fayde

हम अपनी डेली लाइफ में जो भी खाते हैं स्पेशली आज के दौर में वह अक्सर बहुत से विषेले तत्व जैसे केमिकल्स कीड़े मार दवाइयों, गंदे पानी भारी धातु आदि के संपर्क में आती हैं और उसके जहरीले प्रभाव जिगर और किडनी प्रदूषित कर देते हैं जो कि विभिन्न रोगों का कारण बनते हैं।

यह जहर हमारे जिगर किडनी में टिशूज के रूप में इकट्ठा हो जाते हैं इन विषैले तत्वों का अंबार कार्बोहाइड्रेट्स प्रोटींस और पोस्टिक तत्व को पाचन करने में यह तत्व हमारे शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा को कम करते हैं जिससे एक तेजाबी काम एनर्जी और खराब कैसे पैदा होती है और हम लोगों का आसान शिकार बन जाते हैं

परंतु डेली लाइफ में हल्दी का सेवन इन के असर को कम कर देता है और जिगर की सफाई करके उसे ठीक रखता है। ये ज़ेहरीले तत्व से हमारी रक्षा करता है तथा इसके असर को समाप्त करने में हमारी मदद करता है तथा उनका अंबार कम करके जिगर को ठीक रखता है।

सावधनियाँ Turmeric Precautions in Hindi

हल्दी एक बेहतरीन मसाला है जिसके बहुत से फायदे हैं परंतु हर दवाई सबके लिए बराबर लाभदायक या नुकसानदायक नहीं हो सकती।आइए जानते हैं कि कौन लोग हल्दी के ज्यादा सेवन से नुकसान उठा सकते हैं-

  • इस से पहले कि आप हल्दी का सेवन करना आरंभ करें इस बात को सुनिश्चित करें कि वह हल्दी पाऊडर मत लें जो सुपर मार्केट की शेल्फ पर सजा रखा हुआ हो, बेहतरीन क्वालिटी की पिसी हुई या ताज़ा हल्दी इस्तेमाल करें ताकि बेहतरीन फ़ायदे हासिल हो सकें। घर पर बने हल्दी के पेस्ट को फ्रीज में दो हफ्तों तक के लिए सुरक्षित रखा जा सकता है।
  • हल्दी का ज़्यादा मात्रा में सेवन नुकसानदायक तो नहीं है परंतु फिर भी हम आपको ज्यादा मात्रा में इसका सेवन करने की सलाह नहीं देंगे क्योंकि थोड़ी मात्रा में कैफ़ीन भी vभोजन को शरीर का हिस्सा बनने में मदद देती है और हमें चुस्त रखती है परंतु ज़्यादा मात्रा में ये नुकसानदायक है।
  • हृदय रोगियों को लगातार ज्यादा मात्रा में हल्दी का सेवन नहीं करना चाहिए या अपने डॉक्टर से इस बारे में सलाह अवश्य लेनी चाहिए।
  • किडनी की समस्या से जूझ रहे लोग कम मात्रा में हल्दी का सेवन करें क्योंकि ऑक्सलेट्स इनमें मौजूद होते हैं जो किडनी को नुकसान पहुंचाते हैं।
  • हाल ही में सर्जरी कराने वाले लोगों के लिए हल्दी का इस्तेमाल अच्छा नहीं है क्योंकि यह खून को पतला करती है इसलिए इसकी मात्रा कम से कम लें ताकि आप की सर्जरी का घाव जल्दी भर सके।
  • शरीर में आयरन की कमी से रक्त कम होने लगता है जो बाद में एनीमिया की शक्ल अख्तियार कर लेता है इस के सेवन से शरीर में आयरन की खपत बढ़ जाती है जिससे रक्त की कमी हो जाती है और एनीमिया रोग हो सकता है।
  • भोजन को पचाने के लिए खाने के बाद हल्दी दूध ना पिए हल्दी में पाए जाने वाली करक्यूमिन गैस और एसिडिटी की समस्या पैदा कर सकती है इसलिए जिन लोगों का पाचन तंत्र कमजोर है वह इसका कम मात्रा में सेवन करें।
  • पीरियड्स के दौरान हल्दी का सेवन कम किया जाए क्योंकि यह रक्त को पतला करती है जिससे ज्यादा रक्त बह जाने का खतरा है इसलिए इस दोरान हल्दी से बिल्कुल दूरी बना कर रहे ताकि आपको परेशानी का सामना ना करना पड़े।
  • इसके ज़्यादा सेवन से ब्लैडर की समस्या हो सकती है। इस के अतिरिक्त हल्दी में मौजूद ऑक्सीजन किडनी में पथरी बनाती है। अगर आप पहले से ही पथरी की समस्या से जूझ रहे हैं तो आप हल्दी का सेवन कम कर दें।

अगर आपके मन में अभी भी कोई haldi ke fayde से संबंधित सवाल है या कोई सवाल पूछना चाहते हैं, तो आप निसंकोच कमेंट करके पूछ सकते हैं।

1 thought on “Haldi ke fayde |Turmeric Benefits in Hindi हल्दी के लाभ व नुक़सान”

Leave a Reply

%d bloggers like this: