चंद्रप्रभा वटी

Chandraprabha Vati Uses, Benefits in Hindi चंद्रप्रभा वटी की जानकारी

क्या आप भी Chandraprabha Vati के Benefits और Uses के बारे जानना चाहते है?

अगर आप इसको सही मात्रा और तरीके से इस्तेमाल नहीं करते हैं तो Chandraprabha Vati के side effects हो सकते हैं?

इस पोस्ट में बात करेंगे कि Chandraprabha Vati के benefits क्या है? साथ ही साथ Chandraprabha vati के side effects और chandraprabha vati के price के बारे में भी चर्चा करेंगे।

Chandraprabha Vati Uses in Hindi

सबसे पहले जान लेते हैं uses of chandraprabha vati के बारे में कि इसके उपयोग क्या क्या है?

  • पेशाब में जलन,
  • पथरी,
  • पर्मेह,
  • भगंदर,
  • अंडवृद्धि,
  • पांडू,
  • कामला,
  • बवासीर,
  • कमर का दर्द,
  • आंखों के रोग,
  • स्त्रियों की गर्भावस्था में होने वाली समस्याएं,
  • पुरुषों के धातु संबंधित विकार आदि।
चंद्रप्रभा वटी

इन तमाम तरह की परेशानियों को दूर करती है चंद्रप्रभा वटी।

पुराने रोग में इसका सेवन 3 से 4 महीने लगातार करना चाहिए।

इसके ज्यादा सेवन से असाध्य भगंदर जैसी बीमारी भी दूर हो सकती है।

Chandraprabha Vati Benefits/चंद्रप्रभा वटी के फायदे

आइए अब जानते हैं डिटेल्स में इसके फायदों के बारे में कि चंद्रप्रभा वटी को इस्तेमाल करने से हमें कौन-कौन से फायदे होते हैं?

Chandraprabha Vati For Strong Mind Power

क्या आप एक छात्र है? या फिर आप ऑफिस में काम करते है?

इसी वजह से आपको थकान, डिप्रेशन, चिंता जैसी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है?

चंद्रप्रभा वटी

आपको जानकर खुशी होगी कि चंद्रप्रभा वटी छात्र और ऑफिस में काम करने वालों के लिए रामबाण कि तरह काम करती है।

चंद्रप्रभा वटी का मुख्य कार्य मूत्र इंद्रियां और शुक्र उत्पादन करने वाली इंद्रियां पर रसायन असर पहुंचाने का कार्य करती है।

चंद्रप्रभा वटी धातु बढ़ाने में सहायक

क्या आपके शरीर की धातुएं बढ़ नहीं रही? तो आपको घबराने की जरूरत नहीं है।

क्योंकि चंद्रप्रभा वटी के सेवन से शरीर की सारी धातुएं बढ़ने लगती हैं।

और यह चंद्रप्रभा वटी तमाम रोगों का सर्वनाश करने में सक्षम होती है।

क्या आपने छोटी उम्र में हस्तमैथुन किया है?

छोटी सी उम्र में हस्तमैथुन की दुष्ट गंदी और तबाहकुन आदत पड़ जाने की वजह से न जाने कितने ही लोगों की टेनिस शिथिल बन गई।

और वीर्यस्राव यानी baar-baar वीर्य का निकल जाना जैसी बीमारी हो गई

Chandraprabha Vati for Nightfall

क्या आप भी नाईट फॉल की परेशानी से जूझ रहे हैं?

Chandraprabha Vati for Nightfall

क्या आपके भी पेशाब में कतरा आ रहा है? या पेशाब के बाद कतरा आ रहा है?

क्या आपको भी इन सब तरीकों से वीर्य निकल जाने के बाद शरीर में कमजोरी महसूस होती है?

विशेष रुप से क्या आपकी भी इंद्री सिथिल हो गई?

क्या आपको भी औरतों के बारे में सोचने पर ही वीर्य स्खलन हो जाता है?

यह औरत को देखने से ही वीर्य स्खलन हो जाता है??

इसी तरह की तमाम परेशानियों में चंद्रप्रभा वटी रामबाण के भी बाप की तरह काम करती है।

क्या आप 18+ के हो गए है ??

अगर आपका जवाब हां है तो आप चंद्रप्रभा वटी की जगह वंग भस्म का इस्तेमाल अच्छे रिजल्ट के लिए कर सकते हैं।

क्या आप शुक्राणुओं की कमी होने के कारण बच्चा पैदा नहीं कर पा रहे हैं??

अगर ऐसा है तो आपको ब्रह्मचर्य के पालन के साथ चंद्रप्रभा वटी का सेवन करना चाहिए।

ज्यादा सेक्स करने की वजह से स्त्री और पुरुष दोनों के शरीर कमजोर हो जाते हैं और लंबे समय तक चलने वाले लोग जैसे कब्ज गैस उत्पन्न हो जाते हैं।

परिणाम में सर्व धातु परी पोषण क्रम विकृत होता है। इसकी वजह से पूरा शरीर पीला पड़ लगता है।

कुछ लोगों को कामला और कुछ लोगों को हैमलेट के समान चिरकरी श्रयदायक रोग हो जाता है।

यह सारी बीमारियां हस्तमैथुन की वजह से भी होती है और अगर आप इसीलिए चंद्रप्रभा वटी इस्तेमाल कर रहे है।

तो आपके लिए खुशखबरी है चंद्रप्रभा वटी आपके लिए बहुत ही लाभदायक साबित होगी।

वीर्य निकालने की आदत से कब्ज जैसी खतरनाक बीमारी उत्पन्न हो जाती है।

इन्हें भी जाने: Divya Youvnamrit Vati Review: Uses, Benefits and Side Effects

फिर पेट में हवा भरे रहना, सोचशुद्धि ना होना, किसी किसी को अर्श हो जाना, रक्त गिरना, गुदाद्वार में जलन,

मनुष्य का ज़्यादा और जल्दी थक जाना आदि लक्षण हो जाने पर चंद्रप्रभा वटी का उपयोग आपके लिए उत्तम होगा।

चंद्रप्रभा वटी गर्भाशय रोगों में फायदेमंद

गर्भाशय की अशक्ति से बीज का ग्रहण ना होना, गर्भ ना रहना, या 4-5 महीने गर्भ ठहरने के बाद गर्भपात हो जाना।

ऐसी परिस्थितियों में चंद्रप्रभा वटी का उपयोग बहुत ही फायदेमंद होगा।

पुय- शुक्र के परिणाम से वक्त आया हो अथवा बिजाशय और गर्भाशय को योग्य भोजन ना मिलने

या अकाल में दुरुपयोग होने के हेतु से विकृत हो गए हो तो गर्भधारण में प्रतिबंध होता है।

इस परिस्थिति में चंद्रप्रभा वटी लाभदायक है। चंद्रप्रभा वटी के सेवन से विश्व निर्मूल होकर गर्भाशय और बीजाशया शुद्रधद बन जाते हैं।

यूरिन इन्फेक्शन में सहायक

शराब का सेवन तीव्र रसायन आदि औषधि सेवन अथवा कर्म मसाले का अधिक उपयोग करते रहना, तंबाकू, गांजा, सूर्य के ताप में भ्रमण।

आदि कारणों से मुत्रकुच्छ (urine irritation) यानी पेशाब में जलन होती है तो इन बीमारियों में भी चंद्रप्रभा वटी का उपयोग उत्तम है।

इन्हें भी जाने: Mansure Capsule Reviews in Hindi वीर्य में शुक्राणुओं की कमी को दूर करने के लिए

जब इंसानी शरीर में से पेशाब जैसी चीज बाहर ना निकल पाए और वह अंदर ही अंदर बीमारी पैदा करती रहे।

तो उससे होने वाले बीमारियों में भी चंद्रप्रभा वटी एक अलग ही तरीके से कामयाब साबित होती है।

Chandraprabha Vati पेट की पथरी निकालने में भी सहायक

क्या आप पथरी की बीमारी से जूझ रहे हैं? अगर हां तो बाप का घर आने की जरूरत नहीं है।

क्योंकि पथरी जैसी बीमारी में भी चंद्रप्रभा वटी को त्रिविक्रम रस के साथ इस्तेमाल कर कर हमने देखा है जिसका रिजल्ट काफी ज्यादा मददगार साबित हुआ।

Chandraprabha पेट की पथरी निकालने में भी सहायक

हमने पथरी के मरीज को दो गोली चंद्रप्रभा वटी और दो गोली त्रिविक्रम की एक साथ सुबह शाम देखकर देखी

और यह तरीका पथरी निकालने में कारगर साबित हुआ।

सुजाक रोग में चंद्रप्रभा वटी का सेवन

सुजाक यह भी एक तरह का रोग है जिसमें की मूत्र के साथ पस बाहर आता है और मूत्र त्याग करते समय जलन भी होती है।

और यह रोग जितना ज्यादा पुराना होता है उतना ही विविध रोग उत्पन्न करता है। यह रोग जितना ज्यादा पुराना और गहराई में होता है.

चंद्रप्रभा वटी का उपयोग भी उतना ही ज्यादा अच्छा होता है।

आपको सुजाक का रोग नया नया हुआ है अगर ऐसा है तो सुवर्ण वंग का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

और अगर ये रोग पुराना हो चुका है और इसका जहर खून में फैल जाने की वजह से तरह तरह के रोग पैदा हो रहे हैं?

तो आपको इस रोग में चंद्रप्रभा वटी का इस्तेमाल लंबे समय तक करना चाहिए।

चंद्रप्रभा वटी ब्लड प्रेशर में फायदेमंद

क्या आप ब्लड प्रेशर के मरीज हैं अगर है तो ब्लड प्रेशर के मरीज के लिए भी चंद्रप्रभा वटी बहुत अच्छा काम करती है।

इसके सेवन से बल शक्ति और स्फूर्ति का संचार होता है।

तो यह थे चंद्रप्रभा वटी के फायदों के बारे में जानकारी। आइए अब जान लेते है कि इसको इस्तेमाल कैसे करना है?

Chandraprabha Vati Dosege

चंद्रप्रभा वटी की एक से दो गोली सुबह शाम दूध के साथ इस्तेमाल करना फायदेमंद होता है।

अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से जानकारी प्राप्त कर इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

चंद्रप्रभा वटी का Price और कैसे खरीदें?

चंद्रप्रभा वटी को कई सारी जानी-मानी कंपनी द्वारा बनाया गया है इसको खासतौर पर दिव्या के द्वारा भी बनाया गया है।

दिव्य चंद्रप्रभा वटी काफी पॉपुलर है और इसको आप इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

इसके अलावा चंद्रप्रभा वटी को बैद्यनाथ, झंडू, डाबर आदि कंपनी द्वारा बनाया गया है।

आप चाहें तो इन सभी कंपनियों में से कोई भी चंद्रप्रभा वटी का इस्तेमाल कर सकते हैं।

इनको आप अपने नजदीकी मेडिकल स्टोर से खरीद सकते हैं या फिर ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं।

अगर आप इस ऑनलाइन खरीदना चाहते हैं तो नीचे हमने अलग-अलग चंद्रप्रभा वटी की लिंक दी हैं।

वहां से क्लिक करके आप इसको घर बैठे ऑर्डर कर सकते हैं।

Divya Chandraprabha Vati

Divya Chandraprabha Vati – 60 g (120 Tablets)

baidyanath Chandraprabha vati

Baidyanath Chandraprabha Bati – 100 Tablets

Zandu Chandraprabha Vati with Maishudhhi

Zandu Chandraprabha Vati with Maishudhhi

DABUR Chandra Prabha Vati

DABUR Chandra Prabha Vati 

चंद्रप्रभा वटी के बारे में हमने लगभग सभी जानकारी आपके साथ शेयर कर दी है।

अगर आपके मन में अभी कोई चंद्रप्रभा वटी से संबंधित सवाल है याक कोई सवाल पूछना चाहते हैं, तो आप निसंकोच कमेंट करके पूछ सकते हैं।

3 thoughts on “Chandraprabha Vati Uses, Benefits in Hindi चंद्रप्रभा वटी की जानकारी”

Leave a Reply