Anuloma DS Tablet Benefits in Hindi अनुलोमा डीएस टेबलेट की जानकारी

Anuloma ds in Hindi: अनुलोमा डीएस पेट की बीमारी को दूर करने के लिए एक बेहद ही पॉपुलर दवा है। अगर आप भी अपने पेट की बीमारियों से परेशान हैं तो आप anuloma ds का इस्तेमाल करके अपनी समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

इस पोस्ट में आपको anuloma ds के बारे में सारी जानकारी मिलने वाली है, कि इसको किस प्रॉब्लम के लिए इस्तेमाल करना है? और कैसे इस्तेमाल करना है? इसके साथ साथ हम जानेंगे anuloma ds की Price और कहां से इसको खरीद सकते हैं?

अनुलोमा डीएस के फायदे Anuloma DS Benefits in Hindi

अनुलोमा डीएस टेबलेट एक हर्बल दवा जिसके अनेकों फायदे हैं जानते हैं उन फायदों के बारे में विस्तार से….

  • Anuloma ds का मुख्य उपयोग कब्ज जैसी घातक बीमारी को दूर करने के लिए किया जाता है।
  • कब्ज जैसी बीमारी मल की कठोरता से उत्पन्न होती है। और मल कई दिनों तक नहीं आता है।
  • साथ ही साथ मल त्यागने में अधिक जोर लगाना पड़ता है। इसी के चलते पेट में दर्द और गुदा में सूजन जैसी समस्याएं भी पैदा हो जाती हैं।
  • कब्ज के कारण पेट में दर्द, गैस बनना, भूख न लगना जैसी परेशानियां उत्पन्न हो जाती है।
  • कब्ज का इलाज अगर जल्दी ना किया जाए तो यह बवासीर जैसी घातक बीमारी का भी रूप ले लेती है।

इस बीमारी में अधिक पानी पीने से और उचित दवाइयों के उपयोग से इसकी रोकथाम की जा सकती है।

Anuloma ds in Hindi:

ये भी पढ़े:: Mansure Capsule Reviews in Hindi वीर्य में शुक्राणुओं की कमी को दूर करने के लिए

अनुलोमा डीएस जड़ीबूटियां Anuloma DS Tablet Ingredients in Hindi

अनुलोमा डीएस में पाई जाने वाली जड़ी बूटियों की बात करें तो इसमें कई तरह की जड़ी बूटियों का इस्तेमाल किया गया है आइए जानते हैं वह जड़ी बूटियां कौन-कौन सी हैं…

  • Ajamoda [Ptychotis ajowan] – 16 mg
  • Jeeraka [Cuminum cyminum] – 16 mg
  • Balharda [Terminalia chebula] – 16 mg
  • Yastimadhu [Glycyrrhiza glabra] – 16 mg
  • Shunti [Zingiber officinale] – 16 mg
  • Saindhava lavana [Rock salt] – 20 mg
  • Swarnaksheeri [Cassia lanceolata] – 1100 mg

इन सब जड़ी बूटियों को मिलाकर Anuloma DS तैयार की जाती है
जो आपके कठोर मल को पतला और ढीला बनाकर शरीर से बाहर निकालने में सहायक होती है।

Anuloma ds in Hindi

इसके इस्तेमाल से शरीर के अंदर जमी गंदगी दूर हो जाती है।
इस दवा को आप पुरानी और नई दोनों तरह की कब्ज जैसी बीमारी में इस्तेमाल कर सकते हैं।

अनुलोमा डीएस मात्रा व इस्तेमाल विधि Anuloma DS Tablet Dosege in Hindi

अगर आप कब्ज के मरीज हैं और अनुलोमा डीएस को इस्तेमाल करना चाहते हैं। तो दवा के साथ हल्के गर्म पानी का इस्तेमाल भी करें।

अनुलोमा डीएस को अपने डॉक्टर के अनुसार इस्तेमाल करें तो बेहद फायदेमंद साबित होगा।

अन्यथा हम भी आपको इसके इस्तेमाल करनी का तरीका बता रहे हैं।

ये भी पढ़े:: Patanjali Musli Pak Review पुरुषों की सभी समस्याएं दूर करने के लिए

अनुलोमा डीएस की एक गोली जरूरत के अनुसार दो गोली दिन में एक ही बार इस्तेमाल करें।

जब शाम का खाना खा लिया जाए तो अनुलोमा डीएस की एक याद के अनुसार दो गोली रात को इस्तेमाल कर ले 24 घंटों में एक बार.

इस दवा को पानी के साथ इस्तेमाल किया जाता है अधिक जानकारी के लिए आप अपने नजदीकी डॉक्टर से सलाह जरूर ले ले।

अनुलोमा डीएस के नुकसान Anuloma DS Tablet Side Effects in Hindi

अनुलोमा डीएस एक हर्बल दवा है। लेकिन इस दवा का इस्तेमाल ज्यादा नहीं करना चाहिए।

Anuloma ds in Hindi

इसमें शन्य नामक एक जड़ी बूटी शामिल है शन्य जिसे स्वर्ण पति भी कहते हैं यह एक आदत बना देने वाली जड़ी बूटी होती है।

अगर आप इस जड़ी बूटी का इस्तेमाल ज्यादा और बार-बार करते हैं तो आपका शरीर इसका आदी बन जाएगा जिससे आपको आगे चलकर परेशानी हो सकती है।

और फिर बगैर इस जड़ी-बूटी के इस्तेमाल किए आप शौच नहीं कर सकते और यह आपके लिए परेशानी साबित होगा।

खास बात का रखें ख्याल Anuloma ds in Hindi: 

इसका इस्तेमाल अधिक मात्रा में करना नुकसानदायक हो सकता है।
गर्भवती महिला, पथरी का मरीज, 15 साल से कम उम्र के लड़के इस दवा का इस्तेमाल ना करें।

हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित रहने वाले मरीज भी इस दवा का इस्तेमाल ना करें। अगर आपको दस्त हो रहा है तो भी आप उसका उपयोग ना करें।

अनुलोमा डीएस के बारे में हमने लगभग सभी जानकारी आपके साथ शेयर कर दी है।  

अगर आपके मन में अभी भी कोई अनुलोमा डीएस से संबंधित सवाल है या कोई सवाल पूछना चाहते हैं, तो आप निसंकोच कमेंट करके पूछ सकते हैं।

Leave a Reply