शहद के फायदे Honey Benefits in Hindi

प्रकृति की ओर से जितनी चीजें भोजन के तौर पर मनुष्य को प्रदान की गई हैं उनमें शहद एक ऐसा भोज्य पदार्थ है

जो न केवल भोजन के तौर पर बल्कि दवा के रूप में भी प्राचीन काल से आज तक प्रयोग में लाया जाता रहा है।


शहद आपके खानों की मिठास बढ़ाने के काम तो आता ही है मगर सेहत के लिए भी अति उत्तम है।


यूरोप और अन्य देशों में एलोपैथिक की बहुत सी दवाओं में इसका प्रयोग प्राचीन काल से आज तक हो रहा है।


यह न केवल मनुष्य के स्वास्थ्य के लिए बल्कि सुंदरता बढ़ाने के भी काम आता है।
आजकल चेहरे की ब्यूटी और सुरक्षा के लिए जो Face Pack बनाए जाते हैं उसमें शहद एक आवश्यक तत्व के रूप में शामिल किया जाता है।
शहद बेहतरीन Preservative होने की बिना पर इसे फलों को सुरक्षित रखने के लिए भी यूज़ किया जाने लगा है क्योंकि यह खुद भी खराब नहीं होता और दूसरी वस्तुओं को भी लंबे समय तक सुरक्षित रखता है।
शहद के बहुत से फायदे हैं जो कि निम्नलिखित हैं_

शहद के फायदे
Honey Benefits

1- दिमाग को स्वस्थ रखने के लिए…
Honey for Brain Health.

शहद में अनेक औषधिय गुण होते हैं जो कोलिनेर्जिक सिस्टम व परिसंचरण तंत्र को सुचारू रूप से कार्य करने में मदद करते हैं व मस्तिष्क को स्वस्थ बनाते हैं ।

याददाश्त को बेहतर करने के लिए स्टूडेंट के लिए शहद का नियमित सेवन बेहतरीन उपाय है।


शहद में मौजूद मिठास खून में इंसुलिन की सक्रियता बढ़ाती है जिससे एक केमिकल सेरोटोनिन निकलता है जो ऐसे हार्मोन में बदल जाता है

जो दिमाग के आराम वअच्छी नींद के लिए जरूरी है।

2 -दिल को स्वस्थ रखने का उत्तम उपाय।
Honey for Heart Health

डॉक्टरों की रिसर्च रिपोर्टस से साबित होता है कि शहद में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स धमनियों को सुकड़ने से बचाते हैं

धमनियों का सुकड़ना दिल की धड़कन रोकने याददाश्त खराब होने और सिर दर्द की वजह होता है परंतु रोज एक गिलास पानी के साथ दो से तीन चम्मच शहद इसे बचाने में मदद करता है

जिन मरीजों को दिल के दौरे पड़ते हैं उनके लिए भी है शहद फायदेमंद है।

3- शहद ऊर्जा के स्तर को बढ़ाता है Honey Boosts Energy

शुध्द शहद मे एंजाइम,प्रोटीन, खनिज लवण व अमीनो एसिड की मात्रा ऊर्जा का स्तर बढ़ाने में योग दान देती है।


शहद में ग्लूकोज व फल शर्करा के सही समायोजन के कारण ग्लूकोज तुरंत शरीर द्वारा अवशोषित कर लिया जाता है और व तत्काल ऊर्जा प्रदान करता है।


शारीरिक व्यायाम के दौरान एथलीट ऊर्जा बढ़ाने के लिए ग्लूकोज के स्थान पर शहद का प्रयोग करते हैं।

4-शारीरिक भार व कोलेस्ट्रॉल लेवल में कमी।
Honey for Weight Loss and Cholestrol Reduction.

अगर आप बढ़ते शारीरिक भार से चिंतित हैं तो डॉक्टर्स का मानना है के मीठे पकवानों में शुगर के बजाय शहद को शामिल करें।

क्योंकि शहद की मिठास शुगर की मिठास से अलग होती है जोकि मेटाबॉलिज्म को बेहतर बनाती है और बढ़ते शारीरिक भार को कम करने का सर्वोत्तम उपाय है।


शहद में कोलेस्ट्रोल नहीं होता बल्कि यह ऐसे तत्वों व विटामिन्स से भरपूर है जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक कोलेस्ट्रोल की सतह में कमी लाते हैं।


ऐसे तत्वों की सतह बनाए रखने के लिए जो फालतू कोलेस्ट्रोल से लड़ते हैं रोजाना शहद का प्रयोग अवश्य करें।

5-घाव व जले हुए स्थान को ठीक करने के लिए शहद का प्रयोग।
Honey for Wounds And Minor Burns.

शहद की घावों को उपचार करने की शक्तियां बहुत प्रभावी हैं। इसके जीवाणुरोधी और एंटी इन्फ्लेमेटरी प्रभावों के कारण इस में जले व कटे स्थान के आसपास के ऊतकों को पोषित करने की क्षमता है।


इसके एंटीबैक्टीरियल व प्राकृतिक रूप से सेप्टिक व जीवाणुरोधी और रोगाणुरोधी गुण संक्रमित स्थान के बैक्टीरिया को नष्ट करने का कार्य करते हैं ।


ये चोट व घाव को साफ व संकरमण से मुक्त करते हैं
साथ ही ये घाव की गंध व दर्द को दूर करता हैै कटी हुई त्वचा पर लगाना भी लाभदायक है।

6-रोगमुक्त व स्वस्थ दांतों के लिए शहद
Honey for Teeth And Gums

दांतो के लिए शहद एक बेहतरीन टॉनिक है इसे सिरके में मिलाकर दांतों पर मलने से दांतो को मजबूती वे चमक प्राप्त होती है।

इसके एंटी बैक्टीरिया व संक्रमणरोधी गुण मसूड़ों की बीमारी जैसे जीनिंगविटाइट व रक्तस्राव का असर काफी कम कर देते हैं

गुनगुने पानी में शहद व सिरके के साथ नमक मिलाकर गरारे करने से गले में मसूढ़ों की सूजन खत्म हो जाती है।

7-पाचन तंत्र के लिए लाभदायक है शहद
Honey for Digestive System


शहद एक एंटी बैक्टीरियल पदार्थ है जो पूरे पाचन तंत्र के लिए लाभकारी है।


शहद में पाया जाने वाला एंजाइम हाइड्रोजन पेरेक्साइड की कम मात्रा का उत्पादन करता है जोकि गैस्ट्राइटस का इलाज कर सकता है


anti bacterial होने की वजह से खाली पेट एक चम्मच शहद को खाना बहुत सारी ऐसी बीमारियों से सुरक्षा प्रदान करता है सिस्टम से Dijestive sy जुड़े होते हैं
मैदे तक जाते हुए शहद रोगाणुओं को नष्ट कर शरीर के अंदर के छोटे घावों को भर देता है सुबह खाली पेट शहद पीने से पुरानी कब्ज ठीक हो जाती है और खट्टी डकार बंद हो जाती हैं।

8- ज़हर के आन्तरिक व बाह्य प्रभाव को करता है नष्ट।
Poison Lvy And Skin Treatments With Honey

शरीर में जहर के प्रभाव को कम करने के साथ-साथ यह फूड पॉइजनिंग food poisoning के उपचार में भी अति उत्तम है। इसमें antioxidant के तत्व होते हैं जो शरीर से विषैले तत्वों को बाहर निकालने का ही कार्य नहीं करते बल्कि इसकी anti bacterial तत्व बाहरी त्वचा को लगाने से एक्जिमा दाद व खुजली की समस्या से छुटकारा मिलता है।
यह गंदगी हटाने व त्वचा को नरम बनाकर प्राकृतिक रूप से त्वचा की सफाई करने वाले पदार्थ के रूप में कार्य करता है
रात को सोने से पहले शहद लगाकर सुबह गुनगुने पानी से धो लेने पर एक्जिमा दाद व सोरायसिस जैसे त्वचा विकारों व संक्रमण से बचाता है ।
यह प्राकृतिक हुमेकटेंट humectant है जो त्वचा की नमी moisturizes बनाए रखता है व त्वचा की सूजन व सूखेपन को दूर करता है।
शहद माइकोटॉक्सिंस कवक द्वारा उत्पादित विषाक्त पदार्थ के हानिकारक प्रभावों को कम करता है। अफीम व भांग के प्रभाव को दूर करने के लिए गर्म पानी में शहद का प्रयोग करना अति उत्तम है।
9-शहद खांसी का दुश्मन
Honey for Cough

खांसी की रोकथाम के साथ-साथ शहद ऐसे एंटीबैक्टीरियल पदार्थ का कार्य भी करता है जो गले की तकलीफ में लाभ पहुंचाता है। आधा कप पानी में एक चाय का चम्मच पिसी हुई अदरक एक या दो नींबू का रस और एक चाय का चम्मच शहद मिक्स करें इससे गरारे करने पर खांसी ही नहीं गले की समस्या से भी छुटकारा पाया जा सकता है।

10-अन्य लाभ
Other Benefits
उपरोक्त लाभों के अतिरिक्त शहद के और भी बहुत से लाभ हैं जैसे कि यह प्यास को बुझाता है,
पथरी को निकालता है, इससे नज़र को ताकत मिलती है, जिगर के लिए भी यह लाभदायक है
इस के अतिरिक्त दिल के रोगियों के लिए शहद का इस्तेमाल उत्तम है।यह एक स्वीटनर के रूप में भी कार्य करता है।
सिर की खुश्की दूर करने के लिए हल्के गर्म पानी में मिक्स कर के सर में लगाना लाभकारी है।
बुढ़ापे की तीन समस्याओं शारीरिक कमज़ोरी, बलगम व जोड़ों का दर्द इन तीनों को दूर करने में शहद जादुई असर रखता है।

  • सावधानियां
    caution
    शहद अति उत्तम भोज्य पदार्थ है परंतु इस का उपयोग करते समय कुछ सावधानियां जरूर बरतनी चाहिये-
    1- हमेशा बेहतरीन क्वालिटी का शहद ही खरीदें बैक्टीरिया को दूर करने के लिए पकाया जाने वाला शहद ना खरीदें बल्कि प्राकृतिक तौर पर तैयार बगैर पका शहद ही खरीदें।
    2- पानी या ग्रीन टी में थोड़ी मात्रा में ही शहद मिलाएं।
    3- छोटे बच्चों को जो 1 वर्ष से कम आयु के हों अधिक शहद ना दें।
    4-गर्मी और धूप से शहद को सदैव बचाकर ठंडी जगह पर रखें।
    5-डायबिटीज के रोगी बगैर डॉक्टर की सलाह शहद का सेवन ना करें।
    6- शहद को सदैव एयर टाइट कंटेनर में भरकर रखें इससे यह लंबे समय तक ठीक रहता है और खराब नहीं होता।
    7- अत्यधिक मात्रा में शहद का प्रयोग गंभीर पेट की परेशानी का कारण भी हो सकता है फ्रक्टोज से युक्त शहद छोटी आंत के पोषक तत्वों की अवशोषण क्षमता को बाधित कर सकता है। 8-आंत, ग्रहणी, व मैदे के रोगों में इसका कोई खास फायदा नहीं है इसलिए इन बीमारियों में शहद पर निर्भर न रहें।
    9- शहद का प्रयोग सदैव उसके सेवन के तरीके और रोग के प्रकार को सामने रखकर करें इससे आप शहद के साइड इफेक्ट से बचे रहेंगे।
    10-सदा उत्तम क्वालिटी का असली शहद ही खरीदें शुद्ध शहद सुनहरी रंग का होता है यह गहरे रंग के मुकाबले में ज्यादा महंगा है और ज्यादा मीठा भी होता है शहद के असली और नकली होने की पहचान करें बगैर पके असली शहद की पहचान है कि यह कमरे के सामान्य तापमान पर जमने लगता है इसका सेवन कम मात्रा में किया जाए।
    या असली शहद की पहचान करने के लिए एक काँच के गिलास में पानी लें और एक चम्मच शहद उसमें मिलाएं अगर शहद पानी में घुल जाए तो वह मिलावटी है असली शहद गिलास की तली में जम जाएगा और पानी में खुद से नहीं घुलेगा।

Leave a Reply